क्या UNESCO ने सच में इस्लाम को सब से शांतिप्रिय धर्म घोषित कर दिया है ?

, सचेत नागरिक, इंजीनियर, श्रमजीवी

जवाब 6 महीने पहले लिखा गया • आपको इस में दिलचस्पी हो सकती है

ये खबर बार बार फेसबुक और ट्विटर के द्वारा फर्जी न्यूज़ वेबसाइट / व्यंग्य वेबसाइट जैसे "जनता का रिपोर्टर" इत्यादि फैलाते रहते हैं

UNESCO ने बाकायदा अपनी ऑफिसियल वेबसाइट पर इन फर्जी वेबसाइट का नाम ले कर कर इसका खंडन किया है और कहा है की उन्होंने इस्लाम या किसी भी धर्म को कोई सर्टिफिकेट नहीं दिया है और न ही ये उनका काम है

ऐसी वेबसाइट का मुस्लिमों को बहिस्कार करना चाहिए, इनका मकसद होता है मुस्लिम समाज को गुमराह कर के उनसे आपना प्रचार करवाना. आप मासूमियत से इनकी खबर शेयर करते हैं और ये इनकी पब्लिसिटी बढ़ता है .  जब आप इनके आर्टिकल के लिंक को बिना  पड़ताल के शेयर करते है तो इनका फायदा  होता है .

याद रखिये मैं खुद मुसलमान हूँ इस लिए ये न समझें की मैं इस्लाम दुश्मनी में बोल रहा हूँ

और हमें अपने आप को सब से शांति प्रिय धर्म साबित करने के लिए किसी के सर्टिफिकेट की ज़रुरत ही नहीं है ..

हम जब भी किसी से मिलते हैं "अस्सलामओ अलैकुम" कह कर शांति का पैग़ाम देते हैं ..

आप UNESCO का स्टेटमेंट पढ़ सकते हैं http://www.unesco.org/new/en/media-services/single-view/news/unesco_denounces_fake_statement/

वैसे: जनता का रिपोर्टर एक व्यंग्य वेबसाइट है, उसपर एक भी खबर सही नहीं है

 

806 बार पढ़ा गया · 115 Upvotes
Upvote 115
जवाब लिखें