सवाल

ज़िन्दगी के बारे में एक बढ़िया लाइन या फलसफा बताएं ?

किरात सदस्यों द्वारा लिखे गये जवाब

जीवन के अनुभव
, लेखक अपना नाम ज़ाहिर नहीं करना चाहते

जवाब 1 year पहले लिखा गया • आपको इस में दिलचस्पी हो सकती है

ज़िन्दगी के बारे में सबसे बेहतरीन लाइन हमारे पुराने दोस्त टॉम और जेरी ने कही थी 

इन दोनों ने न सिर्फ पूरी दुनिआ का मनोरंजन किआ है बल्कि दुनिआ को बहुत सारी प्रेरणा भी दी है  ..

चाहे वो किसी कंपनी का CEO हो या घरेलु औरत,

चाहे वो कोई करोड़पति हो या गली में आवाज़ लगाने वाला सब्ज़ी वाला,

चाहहए वो कोई नेता हो या झाड़ू लगाने वाला ,

इस धरती पर ये कहानी हर किसी को पता होनी चाहिए ...


करोड़पति बिल्ली 

ये रही कहानी :

एक दिन टॉम ,जेरी के सर पे सेब रख के तीर से निशाना लगा रहा था....

तभी खत आया ,

टॉम उसे पढता है ..

उसे पता चलता है की उसको विरासत में दस करोड़ रूपए मिले हैं .

जेरी भी उस खत को पढता है .

और वो भी उतना ही खुश होता है जितना की टॉम ...

लेकिन विरासत  में एक शर्त लिखी है ...वो ये के अगर टॉम किसी को नुकसान पहुचायेगा  "यहाँ तक के एक चूहे को भी ..."....तो उससे सब कुछ छीन लिया जायेगा ...

अगले दिन ...

टॉम के विरासत की खबर बहुत तेज़ी से फैली और वो लोग  अपने नए बंगले में  शिफ्ट हो गए 

 

शुरू में तो टॉम को दौलत और शोहरत का बड़ा मज़ा आया ,

मगर जेरी ने फैसला किआ की वो उस खत को टॉम के खिलाफ इस्तेमाल करेगा :

और....

उसी के घर में जेरी ने उसकी पिटाई कर दी ,

उसका केक खा गया ..

बिस्तर  से उसे गिरा दिया ...

और जब भी वो ऐसा करता ... वो अपनी इकलौती  ताक़त का इस्तेमाल करता: खत की वो शर्त- "की अगर उसने किसी को भी नुकसान पहुंचाया..यहाँ तक की चूहे को भी....तो...."

और टॉम कुछ नहीं कर पता ...इस डर से की वो 

अपने दस करोड़ खो देगा 

अगली सुबह ,

बिल्ली  नाश्ता करने बैठी थी, लेकिन जैसे ही उसने प्लेट खोला... वहाँ जेरी निकला 

जेरी ने उसका पूरा नाश्ता खा लिया 

और उसे फिर से तंग  किया  ,

लेकिन इस बार,  टॉम को गुस्सा आ गया 

टॉम ने गुस्से में वो खत उठाया और उसके टुकड़े टुकड़े कर दिए ...

और वो  हिस्सा जिसपर लिखा था "यहाँ तक की एक चूहे को भी ..." जेरी के मुहं में घुसेड़ दिया 

और ...ज़ोर से चिल्लाते हुए... हमले को कूद गया ...

और जेरी पर हमला बोल दिया ....

लेकिन कुछ पलों बाद उसे कुछ एहसास हुआ ….

(और तब उसने इस सदी का सब से महान डायलाग  कहा ..)

“ उईईईईई ,,,,,

(चेहरे पर  गंभीरता है )

मैं दस करोड़ बर्बाद कर रहा हूँ  …………

.

.

.

.

.

.

.

.

……………लेकिन मैं खुश तो हूँ ! ”(ख़ुशी से चिल्लाया )

और जेरी की पिटाई जारी राखी ……

कहानी ख़त्म हुई .


मुझे लगता है इन दोनों बहुमूलय बातें जो एक स्टीव जॉब की है और एक टॉम की, में  कोई फ़र्क़ नहीं है :

"अच्छा काम करने का एक मात्र तरीक़ा ये है के जो करो उससे प्यार करो ":स्टीव जॉब्स 

"मैं करोड़ों डॉलर बर्बाद कर रहा हूँ मगर मैं खुश तो हूँ ": टॉम 

इनके शब्द तो अलग हैं मगर विचार एक ही है : के आप जो भी करें  खुद की संतुष्टि ज़्यादा ज़रूरी है 

 

(इस विचार को अपने दोस्तों से , व्हाट्सप्प , ट्विटर , वगैरा पर अपने दोस्तों से  शेयर ज़रूर करें . ये  किसी की ज़िन्दगी बदल सकता है )

इस जवाब जो अलग से खोलें
1256 बार देखा गया · 39 Upvotes
Upvote 39
क्या आप इस सवाल का अच्छा सा जवाब दे सकते हैं ?

जवाब लिखें